WEEKLY POST: लक्ष्य BPSC – भाग 4

आज जब मैं आपके लिए लक्ष्य BPSC का भाग 4 लिख रहा हूँ तो दुनिया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रही है और हम भारतवासी इसके साथ-साथ  कोविड -19 के टीकाकरण महाभियान की शुरुआत भी कर चुके हैं| मैं इसी सप्ताह वैक्सीन लिया हूँ और उम्मीद है आपमें से कई इस महाभियान में शामिल हुए होंगें| वर्तमान माहौल में कोविड उपयुक्त व्यवहार और वैक्सीनेशन ही वह साधन है जिसके सहारे हम इस चुनौती का सामना कर सकते हैं| अतः यह हमारा कर्तव्य भी है कि इसके लिए सकारत्मक सुचना का प्रसार करें|

अपने पिछले आलेख में 64वीं BPSC में बिहार प्रशासनिक सेवा के लिए चयनित मेधा सिन्हा के साक्षात्कार अनुभव को साझा किया था और इस बात की चर्चा की थी की अगले आलेख में अपने मित्र और 6वीं JPSC  में 2nd  स्थान प्राप्त झारखण्ड प्रशासनिक सेवा के अधिकारी अशोक कुमार भारती के साक्षात्कार अनुभव को साझा करूँगा| पिछले आलेख में मैं इस बात पर चर्चा किया था कि किसी भी व्यक्ति का साक्षात्कार अमूमन उसके जीवनवृत के आस-पास रहती है| अतः आप पहले उसके जीवनवृत्त को समझिये तदनुरूप अपना जीवनवृत बनाइए फिर आप समझ पाएंगे की आप जब अपना साक्षात्कार के लिए आयोग के सामने उपस्थित होंगे तो आपके लिए संभावित प्रश्न क्या हो सकते हैं|

इसे लिखते हुए एक बात मन में कौंधी है और वह है इस परीक्षा हेतु अपनी रणनीति को निर्धारित करने की| मैं आपको ये सलाह देता हूँ की आप इस परीक्षा की तैयारी में सबसे पहले साक्षात्कार की तैयारी शुरू कीजिये| इसके लिए बहुत आसान रास्ता है आप दोनों साक्षात्कार अनुभव को कई बार पढियेगा | जीवनवृत और प्रश्नों को जोड़ने का प्रयास कीजियेगा फिर आप समझ पाएंगें कि आप का अपना जीवनवृत क्या है| आपके सवाल अपने जीवनवृत से ही होंगें| नीचे सबसे पहले मैं उसी फोर्मेट की पुनः चर्चा करता हूँ जो मेधा के साक्षात्कार अनुभव के लिए किया था |

मुख्यतः साक्षात्कार के प्रश्नों को विभिन्न प्रारूपों में बाँट सकते हैं :

  1. स्वयं का परिचय
  2. आपके स्नातक वाले विषय से संबंधित प्रश्न
  3. यदि स्नातक वाले विषय आपके वैकल्पिक विषय नहीं हैं तो उससे संबंधित प्रश्न
  4. आपके रूचि(HOBBY) से संबंधित प्रश्न
  5. यदि आप किसी सेवा में रहे हैं तो उससे संबंधित प्रश्न
  6. वर्तमान के समसामियिक मुद्दों से संबंधित प्रश्न
  7. इन्हीं प्रश्नों में वो कहीं न कहीं आपके धैर्य एवं भरोसे की परख भी कर लेते हैं|

इन्हीं प्रारूपों के अंतर्गत मैं अशोक जी के साक्षात्कार अनुभव की व्याख्या करता हूँ :

अशोक जी का जन्म झारखण्ड के हजारीबाग जिले के केरेडारी प्रखंड के बेला कराली गाँव में हुआ और उन्होंने अपना प्रारम्भिक शिक्षा R.C. Mission School जमुआरी, राजहर, हजारीबाग से की है| दसवीं St. Robert’s High School हजारीबाग से तो अपना इंटरमीडिएट और स्नातक की पढाई St Columba’s College हजारीबाग से पूरा किया है| स्नातक में उनका ओनर्स पेपर अर्थशास्त्र था बाद में इसी विषय से उन्होंने अपने UPSC की तैयारी के दौरान मास्टर भी किया| इसी विषय से उनका NET-JRF भी था और फिर इसी विषय से उन्होंने Ph.D हेतु JNU, दिल्ली में अपना नामांकन भी कराया था परंतु तब तक JPSC में उनका चयन हो गया| अब भी उनकी चाहत है की झारखण्ड सरकार से अनुमति प्राप्त कर वो अपना Ph.D पूरा करें साथ ही मुझे उम्मीद है की वो UPSC के अपने बचे हुए प्रयास में भारतीय प्रशासनिक सेवा के सदस्य बनने की अपनी योग्यता को हकीकत में बदलेंगे|

अशोक जी का साक्षात्कार 26 फरवरी 2020 को निर्धारित थी| साक्षात्कार से एक दिन पहले ही प्रमाणपत्रों की जाँच हो चुकी थी| साक्षात्कार के दिन समय से आयोग पहुँच गये वहां सभी की उपस्थिति दर्ज किया गया फिर सभी को एक सीक्रेट संख्या दिया गया| साक्षात्कार में उसी सीक्रेट क्रम संख्या के अनुसार साक्षात्कार बोर्ड मिला| अशोक जी को बोर्ड D मिला था |

अशोक जी थोड़ी घबराहट महसूस कर रहे थे, उसे कम करने के लिए प्रतीक्षा रूम में वह टहल रहे थे तभी उनकी सीक्रेट क्रम संख्या की आवाज लगाई गई| साक्षात्कार रूम में प्रवेश करने से पहले अनुमति मांगे, अनुमति मिली एवं बैठने के लिए भी कहा गया तो आराम से अपने लिए उपलब्ध कुर्सी पर बैठे| बैठते ही उनके लिए पहला (1)प्रश्न कि आपने किस विषय से स्नातक किया है?

यहाँ साक्षात्कार हेतु मेरी जो धारणा रही है कि आप इतना सजग रहें कि साक्षात्कार की दिशा स्वयं निर्धारित करें और यह अवसर हर व्यक्ति को मिलता है मुझे मिला था अपने Ph.D वाली साक्षात्कार में| अशोक जी यहाँ बहुत सुन्दर तरीके से साक्षात्कार की दिशा तय कर लिए| पहले प्रश्न के लिए उनका जवाब था कि सर मैं अर्थशास्त्र से स्नातक एवं मास्टर किया हूँ एवं वर्तमान में JNU दिल्ली से Ph.D कर रहा हूँ|

इस एक जवाब ने उनके साक्षात्कार के 90 प्रतिशत प्रश्नों की दिशा तय कर दी और वो थी अर्थशास्त्र के इर्द- गिर्द| आगे मैं अशोक जी से पूछे गये लम्बे सवालों की श्रृंखला लिखता हूँ जो की साक्षात्कार से लौटने के बाद उन्होंने कुशलतापूर्वक अपनी डायरी में लिख लिए थे और वही मुझसे साझा किए हैं|

(2)प्रश्न : आप JNU से Ph.D कर रहे हैं तो प्रशासन में क्यूँ आना चाहते हैं? आपके पास प्रोफेसर बनने का बेहतर विकल्प हो सकता है|

इस प्रश्न का जवाब देते हुए अशोक जी को थोड़ी घबराहट महसूस हुई थी जिस पर बोर्ड के सदस्यों ने उनसे कहे कि आप रिलेक्स रहते हुए जवाब दीजिये|

(3) प्रश्न : आप 2010 में ही स्नातक कर लिए थे तो इतना दिन क्या कर रहे थे ?

(4) प्रश्न : Ph. D का Topic क्या है?

(5) प्रश्न : JNU में Ph.D कोर्स वर्क कितने दिन का होता है ?

(6) प्रश्न : Marginal Cost क्या है?

(7) प्रश्न : Price का निर्धारण कैसे होता है ?

(8) प्रश्न : Equilibirium कैसे establish होता है ?

(9) प्रश्न : आप JNU से हैं, अभी हाल ही में JNU के एक व्यक्ति को पुरुस्कार दिया गया है उनका नाम क्या है ?

(10) प्रश्न : अभिजीत बनर्जी की पत्नी का क्या नाम है और वो किस देश से है ?

(11) प्रश्न : इन दोंनों के अलावा तीसरे व्यक्ति का क्या नाम है जिसे नोबेल पुरुस्कार दिया गया है?

(12) प्रश्न : अभिजीत बनर्जी को किस सिद्धांत के लिए नोबेल पुरुस्कार दिया गया है?

(13) प्रश्न : ड्रेन सिद्धांत क्या है ?

(14) प्रश्न : ड्रेन सिद्धांत किसने दिया है ?

(15) प्रश्न : क्रॉस सबसिडी क्या है ?

(16) प्रश्न : माल्थस के सिद्धांत के बारे में बताइए ?

(17) प्रश्न : कार्ल मार्क्स की प्रसिद्ध पुस्तक का क्या नाम है ?

(18) प्रश्न : विकास अर्थव्यवस्था में एक विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री, जिनका सिद्धांत भारतीय अर्थव्यवस्था के संदर्भ में भी प्रायोगिक है, का नाम क्या है? उसके पुस्तक का नाम भी बताइए?

(19) प्रश्न : केन्स का नाम सुना है? उनका सिद्धांत क्या है ?

(20) प्रश्न : केन्स इतना प्रसिद्ध क्यों है?

उसने कब अपना सिद्धांत दिया था?

भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए उसके सिद्धांत कितना प्रायोगिक है?

(22) प्रश्न : आपने हरित क्रांति का नाम सुना है?

भारत के संदर्भ में किस व्यक्ति को हरित क्रांति के पिता के रूप में जाना जाता है ?

(23) प्रश्न : नोर्मन बार्लोग किस देश के थे ?

(24) प्रश्न : मुग़ल काल में किसके काल को स्वर्णकाल कहा जाता है ?

(25) प्रश्न : शाहजहाँ के काल को ही स्वर्णकाल क्यों कहा जाता है ?

(26) प्रश्न : “KING CAN DO NO WRONG” इस कथन से आप क्या समझते हैं?

(27) प्रश्न : भारत के राष्ट्रपति और ब्रिटेन के राजा में क्या फर्क है जबकि दोनों को मंत्रिपरिषद के सलाह से ही काम करना है ?

(28) प्रश्न : RBI के गवर्नर कौन हैं?

(29) प्रश्न : RBI का मुख्य कार्य क्या है ?

(30) प्रश्न : वर्तमान में बैंकों की मुख्य समस्या क्या है ?

(31) प्रश्न : NPA का पूरा नाम क्या है ?

(32) प्रश्न : भारत की वर्तमान में आर्थिक स्थिति क्या है अर्थात मंदी और स्लोडाउन

(33) प्रश्न : आप JNU से Ph.D कर रहे हैं यदि आपको भारत सरकार को आर्थिक सलाह देने के लिए कहा जाए तो आप क्या सलाह देंगे?

(34) प्रश्न : आपका सलाह केंसियन अर्थव्यवस्था से संबंधित प्रतीत होता है, इसका मतलब हमलोग फिर से केंसियन दौर में लौट रहे हैं?

विषय संबंधित लगभग सभी जवाबों से सदस्य संतुष्ट प्रतीत हो रहे थे जिसका असर परिणाम में भी देखने को मिला| अशोक जी को 100 में से 87 अंक प्राप्त हुआ| 6वीं JPSC के साक्षात्कार में उन्हें सर्वाधिक अंक प्राप्त हुआ और उन्हें संपूर्ण राज्य में 2nd  स्थान प्राप्त हुआ|

उल्लिखित प्रारूप और प्रश्नों की श्रृंखला को बार – बार पढेंगें तो आपको इस बात का आभास होगा  की आपको अपने साक्षत्कार के लिए किस प्रकार तैयार होना है | मैं बार – बार पढने को क्यूं कह रहा हूँ इसका एक वैज्ञानिक कारण है कि आप जितनी बार उसे पढ़ते हैं उतनी बार आपका मस्तिष्क उसे बेहतर तरीके से समझने का प्रयास करता है और आपकी समझ हर बार विकसित होती है|

आलेख थोड़ी लम्बी हो गई परन्तु विस्तृत वर्णन की आवश्यकता थी कुछ सवालों को तो मैं छोड़ दिया हूँ|

  • अगले आलेख में मुख्य परीक्षा से संबंधित विषयों पर चर्चा करेंगे और समझने का प्रयास करेंगें कि

मुख्य परीक्षा से संबंधित कौन से विषय की तैयारी एकीकृत रूप से किया जाना चाहिए और किसकी तैयारी केवल मुख्य परीक्षा से संबंधित है |

अब अगले आलेख में – (खुश रहें – स्वस्थ रहें)

(कुँवर आईंस्टीन)