बिरसा मुंडा पुण्यतिथि विशेष

बिरसा मुंडा

  • भारतीयइतिहास में बिरसा मुंडा एक ऐसे नायक थे जिन्होंने  झारखंड में अपने क्रांतिकारी चिंतन से उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में आदिवासी समाज की दशा और दिशाबदलकर नवीन  युग का सूत्रपात किया।
  • 15 नवंबर1875 को झारखंड के आदिवासी दम्पति सुगना और करमी के घर जन्मे बिरसा मुंडा ने हिन्दू धर्म और ईसाई धर्म का बारीकी से अध्ययन किया।

बिरसा मुंडा आंदोलन

  • यह आंदोलन झारखंड में सबसे अधिक संगठित और व्यापक माना जाता रहा है।
  • इस आंदोलन के नायक बिरसा मुंडा को भगवान के अवतार रूप में मान्यता मिली है।
  • बिरसा आंदोलन सही मायनों में एक सफल आंदोलन कहा जाता है। इसने जनजातियों में आत्मसम्मान, अधिकारों की रक्षा, आर्मिकता की रक्षा जाग्रत करने के साथ ही इन्हें रूढ़ियों-अंधविश्वासों से दूर रहने की प्रेरणा भी दी।
  • इसी आंदोलन ने अंग्रेज सरकार को जनजातियों के प्रति संवेदनशील रहने को विवश किया।
  • बिरसा आंदोलन के कारण   बिरसा मुंडा और उसके साथी गया मंडा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।
  • जेल में रहते हुए कुछ असाध्य बीमारियों और समुचित उपचार के अभाव में बिरसा मुंडा की मृत्यु 9 जून1900 हो गई।
  • बिरसा मुंडा ने अपने अल्प जीवन में लोगों को जाग्रत कर दिया था और आज भी उसे भगवान् बिरसा मुंडा के रूप में याद किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.