BPSC परीक्षा: सामान्य परिचय

BPSC परीक्षा: सामान्य परिचय

बिहार-पब्लिक सर्विस कमीशन (BPSC) की तैयारी का प्रारंभ आप इतिहास से कर सकते हैं। यह प्रारंभिक परीक्षा के पाठ्यक्रम का ऐसा भाग है, जो प्रिलिम्स एवं मुख्य परीक्षा दोनों ही दृष्टिकोण से अत्यंत महत्वपूर्ण है। प्रारंभिक परीक्षा से इससे संबंधित लगभग 35 प्रश्न होते हैं, जो इतिहास के प्रत्येक भाग से संबंधित होते हैं।उपरोक्त के अलावा अगर बिहार स्पेशल की बात करें तो उसमें भी अन्य राज्यों की वनिस्पत बिहार से संबंधित प्रश्नों की संख्या औसतन 5 से 10 होती है।

इतिहास के अध्ययन के लिए NCERT के अलावा किसी एक Text Book का सहारा आप ले सकते हैं।इसके अलावा इम्तियाज अहमदसर के बिहार स्पेशल वाले भाग का अध्ययन कर सकते हैं। इसमें सामान्य अध्ययन के प्रत्येक भाग से संबंधित शामिल होते हैं। जैसे इतिहास, भूगोल, राज्यव्यवस्था, बिहार आर्थिक दृष्टिकोण से संबंधित प्रश्न, बिहार सरकार की योजनाएं।

इतना पढ़ने के साथ-साथ आप पूर्व में आए प्रारंभिक परीक्षा में आए प्रश्नों का अध्ययन कर सकते हैं उससे आपको प्रश्नों के प्रारूप को समझने में आसानी होगी। इसी तरह आप प्रत्येक विषय का संक्षिप्त प्रारूप बनाते हुए आवश्यकतानुसार उसे निरंतर रिविजन करते रहे क्योंकि थोड़ी-सी भी कन्यूजन आपको पांचवे विकल्प की ओर ले जा सकती है। जिसका विकल्प है-उपरोक्त में से किसी कोई नहीं/या एक से अधिक उत्तर।

अध्ययन सामग्री के रूप में बिहार की योजनाएं, बिहार के बजट सत्र, आर्थिक समीक्षा, कृषि रोड़ मैप के साथ-साथ विज्ञान के हिस्से के विषय को समाहित कर सकते हैं क्योंकि जीव-विज्ञान एवं रसायन के अलावा गणित के भी कुछ प्रश्न रहते हैं, जिसके लिए आप अधिकतम दसवीं कक्षा तक के विषयों का अध्ययन कर सकते हैं।

उपरोक्त के अलावामुख्य परीक्षामें सामान्य अध्ययन के प्रथमप्रश्न-पत्र के खंड ‘क’ में हमें बिहार के इतिहास, 1857 का विद्रोह, कला एवं सस्कृति (पाल, मौर्य, मधुबनी) एवं स्वतंत्रता आंदोलन से संबंधित 6 प्रश्न आते हैं, जिसमें किन्हीं तीन का उत्तर देना होता है।

अगर हम खंड ‘ख’ की बात करें तो इसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दे से संबंधित प्रश्न होते हैं, जिसका प्रभाव व्यापक होता है। जैसे CAA, NRC किसान आंदोलन एवं चीन या नेपाल के साथ विवाद इत्यादि। इसमें 4 या 5 प्रश्न होते हैं जिनमें से 3 प्रश्न के उत्तर देने होते हैं।

खंड ‘ग’ Data Interpretation के 4 प्रश्न आते हैं जिसमें से 2 प्रश्न के उत्तर देने होते हैं।

सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र-2 के खंड ‘क’ में राज्यव्यवस्था से 4 प्रश्न आते हैं, जिसमें 3 प्रश्न बनाने होते हैं। खंड ‘ख’ में अर्थव्यवस्था और भूगोल से मिश्रित प्रश्न आते हैं। जिसमें प्रश्नों की संख्या 4 होती है और 3 के उत्तर देने होते हैं।

खंड ‘ग’ की बात करे तो इसमे विज्ञान एवं प्रौद्यागिकी से संबंधित 4 प्रश्न आते हैं जो नवीन खोज इत्यादि से संबंधित होते हैं। इसमें से 2 प्रश्नों के उत्तर देने होते हैं।

सामान्य अध्ययन के दोनों पत्र 300-300 अंक के होते हैं इसके अलावा एवं वैकल्पिक विषय भी 300 अंक का होता हैं। और इसी आधार पर न्यूनतम अर्हता प्राप्त छात्रों को मौखिक परीक्षा हेतु आमंत्रित किया जाता है।

यह हिस्सा (मोखिक परीक्षा), 120 अंक का होता है और अंतिम मेरिट 1020 अंकों पर बनाई जाती है। इस तरह से उपरोक्त प्रक्रिया के माध्यम से आप प्रारंभिक परीक्षा से सफर की शुरूआत करते हैं और अंतिम सूची में चयन होने पर इस सफर की समाप्ति कर, नए भविष्य की ओर अग्रसर होते हैं।

 

नए भविष्य की अग्रिम सुभकामनाएँ !

Leave a Reply

Your email address will not be published.